8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Crop Production And Management)

8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु

8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe) Class 8 Science Chapter 2 in Hindi Notes

8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe)8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Crop Production And Management)

8th Class Science Notes in Hindi Chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe)

इस 8th Class Science Notes in Hindi chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe) हमे बहुत कुछ नया पढ़ने को मिलेगा और बहुत कुछ नया सिखने को मिलेगा।

Chapter = 2

(फसल उत्पादन एवं प्रबंध)

➡️ सूक्ष्मजीव किसे कहते हैं?

  • सूक्ष्मजीव इतने छोटे होते हैं कि उन्हें बिना यंत्र की सहायता से नहीं देखा जा सकता। इनमें से कुछ, जैसे कि ब्रेड पर उगने वाले कवक को आवर्धक लस की सहायता से देखा जा सकता है जबकि अन्य बिना सूक्ष्मदर्शी की सहायता से दिखाई नहीं देते। यही कारण है कि इन्हें सूक्ष्मजीव कहते हैं।

➡️ किण्वन अथवा फर्मेटेशन किसे कहते हैं?

  • चीनी के एल्कोहल में परिवर्तन की यह प्रक्रिया किण्वन अथवा फर्मेटेशन कहलाता है।

➡️ प्रतिजैविक अथवा एंटीबायोटिक किसे कहते हैं?

  • जब कभी आप बीमार पड़ते हैं तो डॉक्टर आपको पेनिसिलिन का इंजेक्शन देते हैं अथवा कोई अन्य प्रतिजैविक को गोली अथवा कैप्सूल देते हैं। इन औषधियों का स्रोत सूक्ष्मजीव हैं। ये बीमारी पैदा करने वाल सूक्ष्मजीवों को नष्ट कर देती हैं अथवा उनकी वृद्धि को रोक देती हैं। इस प्रकार की औषधि को प्रतिजैविक अथवा एंटीबायोटिक कहते हैं।
  • आजकल जीवाणु और कवक से अनेक प्रतिजैविक औषधियों का उत्पादन हो रहा है। स्ट्रेप्टोमाइसिन, टेट्रासाइक्लिन और एरिथ्रोमाइसिन सामान्य रूप से उपयोग की जाने वाली प्रतिजैविक हैं जिन्हें कवक एवं जीवाणु से उत्पादित किया जाता है।

➡️ रोगाणु अथवा रोगजनक किसे कहते हैं?

  • सूक्ष्मजीव अनेक प्रकार से हानिकारक हैं। कुछ सूक्ष्मजीव मनुष्य, जंतुओं एवं पौधों में रोग उत्पन्न करते हैं। रोग उत्पन्न करने वाले ऐसे सूक्ष्मजीवों को रोगाणु अथवा रोगजनक कहते हैं।

➡️ संचरणीय रोग किसे कहते हैं?

  • सूक्ष्मजीवों द्वारा होने वाले ऐसे रोग जो एक संक्रमित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति में वायु, जल, भोजन अथवा कायिक संपर्क द्वारा फैलते हैं, संचरणीय रोग कहलाते हैं।
  • Example – हैजा, सामान्य सर्दी-जुकाम, चिकनपॉक्स एवं क्षय रोग ।

➡️ रोग-वाहक किसे कहते हैं?

  • कुछ कीट एवं जंतु ऐसे भी हैं जो रोगकारक सूक्ष्मजीवों के रोग-वाहक का कार्य करते हैं उन्हें रोग-वाहक कहते हैं।
  • घरेलू मक्खी इसका एक उदाहरण है।
  • मादा एनॉफ्लीज मच्छर इसका अन्य उदाहरण है।
  • मादा एडीस मच्छर डेंगू के वायरस का वाहक है। 

➡️ परिरक्षक किसे कहते हैं?

  • नमक एवं खाद्य तेल का उपयोग सूक्ष्मजीवों की वृद्धि रोकने के लिए सामान्य रूप से किया जाता है। अतः इन्हें परिरक्षक कहते हैं।

➡️ पॉश्चरीकरण किसे कहते हैं?

  • पॉश्चरीकृत दूध को बिना उबाले इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि यह सूक्ष्मजीवों से मुक्त होता है। इसके लिए दूध को 70°C पर 15-30 सेकंड के लिए गर्म करते हैं फिर एकाएक ठंडा कर उसका भण्डारण कर लेते हैं। ऐसा करने से सूक्ष्मजीवों की वृद्धि रुक जाती है। इस प्रक्रिया की खोज लुई पॉश्चर नामक वैज्ञानिक ने की थी, इसीलिए इसे पॉश्चरीकरण कहते हैं।

➡️ प्रतिरक्षी क्या है?

  • जब रोगकारक सूक्ष्मजीव हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं तो उनसे लड़ने के लिए हमारा शरीर प्रतिरक्षी उत्पन्न करता है।
  • शरीर को यह भी स्मरण रहता है कि वहाँ सूक्ष्मजीव अगर हमारे शरीर में पुनः प्रवेश करता है तो उससे किस प्रकार लड़ा जाए।
  • अत: यदि मूत अथवा निष्क्रिय सूक्ष्मजीवों को स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में प्रविष्ट कराया जाए तो शरीर की कोशिकाएँ उसी के अनुसार लड़ने के प्रतिरक्षी उत्पन्न करके रोगकारक को नष्ट कर देती हैं।
  • यह प्रतिरक्षी हमारे शरीर में सदा के लिए बनी रहती हैं तथा रोगकारक सूक्ष्मजीव से हमारी सदा के लिए सुरक्षा होती है।

8th Class Science Notes in Hindi chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe)

अगर आपको हमारे 8th Class Science Notes in Hindi chapter 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु (Microorganisms: Friend and Foe) पसंद आए तो इसे आपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए। 

Leave a Comment

Your email address will not be published.